वास्तु शास्त्र के अनुसार दक्षिण पूर्व दिशा में रसोईघर क्यों होना चाहिए ??

Kitchenvaastu

नमस्कार आपका स्वागत है  किसी भी घर में रसोईघर  एक  महत्वपूर्ण जगह होती है

क्योंकि परिवार के प्रत्येक सदस्य का स्वास्थ्य इसी स्थान से जुड़ा हुआ होता है

हमारे वास्तु शास्त्र में रसोईघर खास जगह माना जाता है पूरे घर की सुख शांति और समृद्धि रसोईघर से जुड़ी होती है

वास्तु शास्त्र के अनुसार दक्षिण पूर्व दिशा में रसोईघर होना चाहिए दक्षिण पूर्व दिशा को अग्नि दिशा कहा जाता है अग्नि दिशा के देवता अग्नि देव है अग्नि दिशा में रसोईघर होने से घर सकारात्मकता रहती है खाना बनाने और खाना खाने में आनंद आता है घर में अन्न कि कमी नहीं होती

दक्षिण पूर्व के अलावा किसी अन्य दिशा में विशेषकर दक्षिण पश्चिम दिशा मैं रसोईघर होने से बहुत ही मुश्किल आती है आर्थिक संकट बना रहता है घर में पैसा नहीं टिकता खाना बनाने तथा खाना खाने में उत्साह नहीं रहता घर में बीमारी आती है घर में झगड़े होते रहते हैं इसलिए दक्षिण पश्चिम दिशा में रसोई घर ना बनाएं अगर आपके घर की रसोई किसी और डायरेक्शन में है तो घर के अग्नि कोने में हमेशा एक दिया जलाकर रखें

रसोई घर में चूल्हे का स्थान पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए क्योंकि घर में खाना बनाने वाली महिला का मुंह पूर्व दिशा में होना चाहिए

 इसके साथ वास्तु शास्त्र में कई बात बताई गई है जिसका पालन रसोई घर में करना आवश्यक है जिससे घर में सकारात्मक वातावरण बनता है

रसोई घर में मां अन्नपूर्णा का तथा महालक्ष्मी का वास होता है इसलिए रसोईघर किसी मंदिर से कम नहीं है  है रसोई घर में कूड़ा करकट गंदे कपड़े जूते चप्पल भूल से भी ना रखें इससे मां अन्नपूर्णा रूठ जाती है

कई बार हम दवाइयों को रसोई घर में रख देते हैं ऐसा करने से इसका असर घर के अन्य सदस्यों पर भी पड़ता है और घर में नकारात्मकता आती है कुछ दवाइयों को फ्रिज में रखना आवश्यक है उसको छोड़ कर अन्य दवाइयां रसोई घर में ना रखें

रसोई घर में साफ सफाई रखने के साथ कोई भी टूटी-फूटी बिना उपयोग की वस्तुओं को ना रखें खराब वस्तु या उपकरण  को तुरंत बदल डाले

रसोई घर में सिंह पर आप पानी की किसी भी नल से पानी लगातार टपकना अशुभ माना जाता है  ऐसी पाइप को तुरंत ठीक करवा ले

रसोई घर में शीशा कभी ना रखें रसोई घर में शीशा रखने से दुर्भाग्य बना रहता है हर व्यक्ति सफलता प्राप्त करने की बजाय असफलता हो जाता है

रसोईघर में कभी भी गंदे तथा झूठे हाथ नहीं धोने चाहिए कुर्ला या ब्रश भी नहीं करना चाहिए ऐसा करने से मां अन्नपूर्णा रूठ जाती है

रसोई घर का रंग काला तथा गहरा कभी ना रखें जय रंग अशुभ माने जाते हैं रसोई घर में पीले रंग का प्रयोग करना चाहिए दोस्तों यह था महत्वपूर्ण वास्तु नियम जो रसोईघर के बारे में बताए गए थे

Subscribe to our Newsletter

To Recieve More Such Information Add The Email Address ( We Will Not Spam You)

Share this post with your friends

Leave a Reply

Related Posts

parma ekadashi 2024

क्या है परमा एकादशी? क्यों और कैसे मनायी जाती है परमा एकादशी? जाने परमा एकादशी से जुड़ी सारी जानकारी !!

क्या है परमा एकादशी? क्यों और कैसे मनायी जाती है परमा एकादशी? जाने परमा एकादशी से जुड़ी सारी जानकारी !!

khatu Shyaam ji

कौन है बाबा खाटू श्याम जी? इतिहास और पौराणिक कथा क्या है? क्यो होती है खाटू श्याम जी की कलयुग में पूजा!!

कौन है बाबा खाटू श्याम जी? इतिहास और पौराणिक कथा क्या है? क्यो होती है खाटू श्याम जी की कलयुग में पूजा!!

https://apnepanditji.com/parama-ekadashi-2023/

Parama Ekadashi 2023

About Parama Ekadashi Auspicious time of Parma Ekadashi Importance of Parama Ekadashi Significance of Parma Ekadashi Parma Ekadashi Puja Method Common Acts of Devotion on