सभी 12 राशि वालों के लिए साल 2022 कैसा रहेगा, पढ़ें वार्षिक राशिफल 2022

yearly

नए वर्ष 2022 से सभी की उम्मीदें हैं कि यह साल सुख-शांति का तोहफा लेकर आए। साल 2021 की चुनौतियों की यादें आने वाले साल का हाल जानने को और उत्सुक बना रही हैं। इस जिज्ञासा के समाधान में हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं ज्योतिष और अंक ज्योतिष के विशेषज्ञों की राय में आगामी वर्ष।  वैदिक ज्योतिष शास्त्र में कुल 12 राशियों का वर्णन किया गया है। हर राशि का स्वामी ग्रह होता है। ग्रह-नक्षत्रों की चाल से राशिफल का आकंलन किया जाता है। ग्रहों की चाल से साल 2022 कुछ राशि वालों के लिए शुभ तो कुछ राशि वालों के लिए अशुभ रहेगा। ग्रहों की चाल का सभी राशियों पर प्रभाव पड़ता है। आइए जानते हैं सभी राशियों के लिए कैसा रहेगा साल 2022। 

मेष राशि–  

वर्ष के प्रथम पंद्रह दिन (15 जनवरी) तक मन परेशान हो सकता है। 16 जनवरी से मानसिक शांति मिलेगी। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। नौकरी के लिए किए गए प्रयासों के सार्थक परिणाम भी मिलेंगे। संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। 12 अप्रैल को राहु के राशि परिवर्तन से व्यर्थ के भय से परेशान हो सकते हैं। कार्यों में अवांछित व्यवधान आ सकते हैं। 13 अप्रैल से शुभ कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं।

घर-परिवार में मांगलिक कार्य हो सकते हैं। भवन के रख-रखाव तथा सौंदर्यीकरण के कार्यों पर खर्च बढ़ सकते हैं। शैक्षिक कार्यों पर भी ध्यान देना चाहिए। 29 अप्रैल से मन में उतार-चढ़ाव रहेंगे। संतान के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। आय में वृद्धि के साधन बन सकते हैं। आय संतोषजनक रहेगी। 3 जुलाई के उपरांत किसी भवन या संपत्ति में निवेश कर सकते हैं। दिनचर्या व्यवस्थित रहेगी। कारोबार में मित्रों का सहयोग भी मिल सकता है। शासन-सत्ता का सहयोग भी मिलेगा। स्वास्थ्य के मद्देनजर खानपान के प्रति सचेत रहें।

वृष राशि– 

वर्ष के प्रारम्भ में मन अशांत रहेगा। 15 जनवरी से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। नौकरी में कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी भी मिल सकती है। परिश्रम भी अधिक रहेगा। वाणी में मधुरता बनाए रखने के प्रयास करें। 26 फरवरी के बाद कार्यों में कठिनाइयां आ सकती हैं। 27 मार्च से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। 12 अप्रैल के बाद नौकरी में स्थान परिवर्तन की संभावना बन रही है। तरक्की के योग भी बन रहे हैं। आय में वृद्धि होगी। लेखनादि बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है।

बौद्धिक कार्यों से आय के साधन भी बन सकते हैं। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। परिवार में सुख-शांति रहेगी। 29 अप्रैल से नौकरी में शासन-सत्ता का सहयोग मिलेगा। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। परिवार से अलग भी रहना पड़ सकता है। खर्चों में कमी आ सकती है। नौकरी में परिवर्तन के अवसर भी मिल सकते हैं, 13 जुलाई के बाद परिवर्तन की संभावना बन रही है। परिवार के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। चिकित्सीय खर्च बढ़ सकते हैं।

मिथुन राशि– 

वर्ष के प्रारम्भ में मन परेशान रहेगा। धैर्यशीलता में कमी हो सकती है। स्वास्थ्य समस्या भी हो सकती है। 15 जनवरी के उपरांत नौकरी में कार्यक्षेत्र में कठिनाइयां आ सकती हैं। वाणी में मधुरता बनाए रखने के प्रयास करते रहें। अफसरों से व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। नौकरी में कुछ अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। 13 फरवरी से कार्यक्षेत्र में सुधार हो सकता है। कारोबार की स्थिति में भी सुधार होगा। 6 अप्रैल के बाद किसी मित्र के सहयोग से नौकरी के अवसर भी मिल सकते हैं। आय में वृद्धि होगी। 

नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा। घर-परिवार में धार्मिक कार्य हो सकते हैं। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। 29 अप्रैल से कार्यक्षेत्र में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। यात्रा में कमी आएगी। आय का कोई अन्य साधन भी बन सकता है। कुछ रुके हुए कार्य भी पूर्ण होंगे। स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहना चाहिए। परिवार की सुख-सुविधाओं की वृद्धि के लिए खर्च बढ़ सकते हैं। शैक्षिक कार्यों के सुखद परिणाम भी मिलेंगे।

कर्क राशि– 

वर्ष के प्रारम्भ में मानसिक परेशानियां हो सकती हैं। 15 जनवरी से धैर्यशीलता में कमी आएगी। संयत रहें। मीठे खानपान के प्रति रुझान बढ़ सकता है। 17 जनवरी से पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 27 फरवरी से स्वास्थ्य में सुधार होगा। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। कारोबार में आय की स्थिति में भी सुधार हो सकता है। 12 अप्रैल से राजनीतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति होगी, परंतु रहन-सहन अव्यवस्थित हो सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

13 अप्रैल से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। धर्म के प्रति श्रद्धा भाव बढ़ेगा। बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। आय में वृद्धि होगी। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। मन प्रसन्न रहेगा। 29 अप्रैल के उपरांत शैक्षिक कार्यों या बौद्धिक कार्यों के लिए विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं। यात्रा लाभप्रद रहेगी। नौकरी में यात्राएं अधिक रहेंगी। शनि की ढैया के कारण कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। संचित धन में कमी आ सकती है। स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें।

सिंह राशि– 

सिंह राशि वालों के जीवन में वर्ष 2022 के प्रारम्भ में मानसिक शांति रहेगी। आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे। 15 जनवरी के उपरांत मन परेशान हो सकता है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। क्रोध पर नियंत्रण रखें। खर्चों में वृद्धि हो सकती है। 26 फरवरी के बाद किसी भवन या संपत्ति के रखरखाव पर खर्च बढ़ सकते हैं। नौकरी में तरक्की के भी मार्ग प्रशस्त हो सकते हैं। कारोबार पर ध्यान दें। कुछ कठिनाइयां आ सकती हैं। मित्रों का सहयोग मिल सकता है। 1 अप्रैल से कारोबार में सुधार होगा। 

पिता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। 12 अप्रैल से कोई नया कारोबार शुरू हो सकता है। 13 अप्रैल के बाद घर-परिवार में कोई धार्मिक/मांगलिक कार्य हो सकते हैं। भवन के सौंदर्यीकरण के कार्यों पर खर्च बढ़ सकते हैं। 29 अप्रैल से नौकरी में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। कार्यभार में वृद्धि हो सकती है। मानसिक परेशानियां भी बढ़ सकती हैं। भाई-बहनों से विवाद की स्थिति से बचें। रहन-सहन अव्यवस्थित हो सकता है।

कन्या राशि– 

कन्या राशि वालों के लिए वर्ष के प्रारम्भ में आत्मविश्वास भरपूर रहेगा, परंतु पारिवारिक समस्याएं भी परेशान कर सकती हैं। कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक, लेकिन सफलता कम रहेगी। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। 15 जनवरी से मन में नकारात्मक विचारों से बचें। संयत रहें। व्यर्थ के क्रोध से बचें। 7 मार्च से पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कारोबार पर पूरा ध्यान दें। 12 अप्रैल से अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। आय में कठिनाइयां आ सकती हैं। खर्चों में वृद्धि होगी। 13 अप्रैल से कुछ मानसिक शांति मिल सकती है। 

दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी। शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। लेखनादि बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ेगी। आय में सुधार होगा। 29 अप्रैल के बाद शैक्षिक कार्यों या बौद्धिक कार्यों के लिए विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। 4 जून के पश्चात किसी कारोबार के सिलसिले में विदेश जा सकते हैं। विदेश यात्रा लाभप्रद रहेगी। कुछ पुराने मित्रों का भी सहयोग मिल सकता है। सुस्वादु खानपान के प्रति रुझान भी बढ़ सकता है।

तुला राशि– 

वर्ष के प्रारम्भ में मन में नकारात्मक विचारों से बचें। संयत रहें। व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। 15 जनवरी से रहन-सहन अव्यवस्थित हो सकता है। नौकरी में इच्छाविरुद्ध कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। 26 फरवरी के बाद भवन सुख में वृद्धि हो सकती है, परंतु पिता के स्वास्थ्य का ध्यान भी रखें। कारोबार में वृद्धि होगी। 12 अप्रैल के बाद कार्यक्षेत्र में कठिनाई आ सकती है। मन अशांत रहेगा।

शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। सचेत रहें। खर्चों में वृद्धि होगी। कुटुंब/परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। धन की प्राप्ति होगी। मित्रों का सहयोग भी मिलेगा। 29 अप्रैल से शैक्षिक और शोधादि कार्यों में सफलता मिलेगी। शैक्षिक कार्यों के लिए विदेश यात्रा के योग भी बन रहे हैं। परिवार से अलग रहना पड़ सकता है। आय में कमी आ सकती है। नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी हो सकता है। किसी दूसरे स्थान पर भी जाना पड़ सकता है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

वृश्चिक राशि–  

वर्ष के प्रारम्भ में आत्मविश्वास तो भरपूर रहेगा, परंतु मन परेशान भी हो सकता है। परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। 15 जनवरी के बाद नौकरी में कोई अतिरिक्त कार्य मिल सकता है। किसी मित्र का सहयोग मिलेगा। 13 फरवरी से माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। पिता का सान्निध्य मिल सकता है। 12 अप्रैल के बाद से किसी पुराने मित्र से भेंट हो सकती है। आय का नया साधन बन सकता है। भवन या संपत्ति सुख में वृद्धि भी हो सकती है।

शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव भी रहेगा। आय में वृद्धि होगी। 29 अप्रैल से शनि की ढैया प्रारम्भ हो जाएगी। कार्यों में व्यवधान आएंगे। अनियोजित खर्चों में वृद्धि होगी। मित्रों से मतभेद बढ़ सकते हैं। पिता के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। नौकरी में यात्राएं भी अधिक रहेंगी। यात्रा खर्च भी अधिक रहेंगे। संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं।

धनु राशि– 

वर्ष के प्रारम्भ में मन अशांत हो सकता है। धैर्यशीलता बनाए रखने के प्रयास करें। 16 जनवरी से संतान के स्वास्थ्य में सुधार होगा। नौकरी में कार्यभार में वृद्धि हो सकती है। परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। 13 फरवरी के उपरांत नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। स्थान परिवर्तन भी संभव है। 7 मार्च से कारोबार की स्थिति में सुधार होना चाहिए। 12 अप्रैल से शैक्षिक कार्यों पर ध्यान दें। व्यवधान आ सकते हैं।

13 अप्रैल से माता के सुख में वृद्धि होगी। धार्मिक कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं। भवन के सौंदर्यीकरण के कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं। 29 अप्रैल से शनि की साढ़ेसाती की समाप्ति होगी। नौकरी में कार्यक्षेत्र की स्थिति में सुधार होगा। परिस्थितियां अनुकूल बनेंगी, परंतु संतान के स्वास्थ्य का ध्यान रखने की जरूरत है। नौकरी में यात्राएं बढ़ सकती हैं। परिवार का साथ रहेगा। अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। चिकित्सीय खर्च भी बढ़ सकते हैं।

मकर राशि– 

वर्ष के प्रारम्भ में आत्मविश्वास तो भरपूर रहेगा, परंतु कारोबार में व्यवधान से परेशान हो सकते हैं। 15 जनवरी से धैर्यशीलता में कमी आ सकती है। परिवार में शांति बनाए रखने के प्रयास करें। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। परिश्रम अधिक रहेगा। मित्रों से वाद-विवाद से बचें। किसी भवन या संपत्ति में निवेश भी कर सकते हैं। 28 फरवरी से संतान के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है। वाहन सुख में वृद्धि होगी। माता-पिता का सान्निध्य मिलेगा।

7 मार्च के बाद किसी मित्र से कारोबार का प्रस्ताव मिल सकता है।धन-लाभ के अवसर मिलेंगे। 12 अप्रैल से माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। आय में व्यवधान आ सकते हैं। 13 अप्रैल से बृहस्पति अपनी स्वराशि में प्रवेश करके तृतीय भाव में आ जाएंगे। शिक्षा व बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। धर्म के प्रति श्रद्धा भाव बढ़ेगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। आय में वृद्धि हो सकती है। 29 अप्रैल को शनि के राशि परिवर्तन से उतरती साढ़ेसाती रहेगी। विदेश यात्रा के अवसर मिल सकते हैं।

कुंभ राशि- 

वर्ष के प्रारम्भ में मन अशांत रहेगा। लगती हुई साढ़ेसाती से खर्च की अधिकता रहेगी। कार्यों में व्यवधान और धैर्यशीलता में कमी रहेगी। 15 जनवरी से खर्चों में वृद्धि हो सकती है। अपने स्वास्थ्य और जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। नौकरी में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। 13 फरवरी से स्थिति में सुधार होगा। 27 फरवरी के बाद नौकरी में कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। परिश्रम रहेगा। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

12 अप्रैल के बाद कार्यक्षेत्र की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे। आय में वृद्धि होगी। बंधु-बांधवों का सहयोग मिलेगा। विदेश यात्रा की योजना बन सकती है। 13 अप्रैल से वृहस्पति के राशि परिवर्तन से धन की स्थिति में सुधार होगा। मित्रों का सहयोग मिलेगा। कुटुंब/परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। 29 अप्रैल से शनि आपकी राशि में प्रवेश करेंगे। साढ़ेसाती का प्रभाव रहेगा। नौकरी में परिवर्तन के योग हैं। कार्यक्षेत्र में भी परिवर्तन संभव। परिवार से दूर रहना पड़ सकता है।

मीन राशि- 

वर्ष के प्रारम्भ में आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। 15 जनवरी से धैर्यशीलता में कमी आ सकती है। स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि हो सकती है। परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 27 फरवरी से संतान के स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। किसी संपत्ति से धन लाभ हो सकता है। 7 मार्च के बाद किसी कारोबार में निवेश कर सकते हैं। व्यावसायिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है।

रहन-सहन अव्यवस्थित रहेगा। पारिवारिक जीवन कष्टमय हो सकता है। 12 अप्रैल के बाद से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। 29 अप्रैल से शनि के राशि परिवर्तन से साढ़ेसाती की शुरुआत हो जाएगी। खर्चों में वृद्धि होगी। संचित धन में कमी आएगी। नौकरी में स्थान परिवर्तन हो सकता है। बनते कार्यों में कठिनाइयां आ सकती हैं। बंधु-बांधवों से विरोध भी हो सकता है। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें।

Subscribe to our Newsletter

To Recieve More Such Information Add The Email Address ( We Will Not Spam You)

Share this post with your friends

Leave a Reply

Related Posts

parma ekadashi 2024

क्या है परमा एकादशी? क्यों और कैसे मनायी जाती है परमा एकादशी? जाने परमा एकादशी से जुड़ी सारी जानकारी !!

क्या है परमा एकादशी? क्यों और कैसे मनायी जाती है परमा एकादशी? जाने परमा एकादशी से जुड़ी सारी जानकारी !!

khatu Shyaam ji

कौन है बाबा खाटू श्याम जी? इतिहास और पौराणिक कथा क्या है? क्यो होती है खाटू श्याम जी की कलयुग में पूजा!!

कौन है बाबा खाटू श्याम जी? इतिहास और पौराणिक कथा क्या है? क्यो होती है खाटू श्याम जी की कलयुग में पूजा!!

https://apnepanditji.com/parama-ekadashi-2023/

Parama Ekadashi 2023

About Parama Ekadashi Auspicious time of Parma Ekadashi Importance of Parama Ekadashi Significance of Parma Ekadashi Parma Ekadashi Puja Method Common Acts of Devotion on