शनि जयंती पर किन उपायों को करके शनि ग्रह को मजबूत किया जा सकता है ?

25_01_2018-shanistory25jan18p

ऐसी मान्यता है कि जेष्ठ माह की अमावस्या तिथि को शनि भगवान का जन्म हुआ था इसलिए इस दिन को शनि जयंती के रूप में मनाया जाता है l जानिए शनि जयंती पर किन उपायों को करके शनि ग्रह को मजबूत किया जा सकता है l

शनि साडे साती का नाम सुनते ही लोग घबराने लगते हैं l शनि की यह दशा काफी खतरनाक मानी जाती है l जिन लोगों की कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में विराजमान होते हैं उन्हें शनि साढ़ेs+ साती के दौरान काफी कष्टों का सामना करना पड़ता है l

इसकी मुक्ति के लिए शनि जयंती का दिन बेहद खास रहेगा l इस दिन आप कुछ विशेष उपाय करके शनि पीड़ा से छुटकारा पा सकते हैं l

शनि जयंती सबसे सुनहरा अवसर है शनि संबंधी सरल और पवित्र उपाय आजमाने के लिए। यह सरलतम उपाय शुभ और हानिरहित हैं। 

1 . शनि जयंती को काले रंग की चिड़िया खरीदकर उसे दोनों हाथों से आसमान में उड़ा दें। आपकी दुख-तकलीफें दूर हो जाएंगी। 

2 . शनि जयंती के दिन लोहे का त्रिशूल महाकाल शिव, महाकाल भैरव या महाकाली मंदिर में अर्पित करें। शनि दोष के कारण विवाह में विलंब हो रहा हो, तो 250 ग्राम काली राई, नए काले कपड़े में बांधकर पीपल के पेड़ की जड़ में रख आएं और शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें। 

3 . पुराना जूता शनि जयंती के दिन चौराहे पर रखें। 

4. आर्थिक वृद्धि के लिए आप सदैव शनिवार के दिन गेंहू पिसवाएं और गेहूं में कुछ काले चने भी मिला दें। 

5 . शनि जयंती को 10 बादाम लेकर हनुमान मंदिर में जाएं। 5 बादाम वहां रख दें और 5 बादाम घर लाकर किसी लाल वस्त्र में बांधकर धन स्थान पर रख दें। 

6. शनि जयंती के दिन बंदरों को काले चने, गुड़, केला खिलाएं। 

7 . शनि जयंती पर सरसों के तेल का छाया पात्र दान करें। 

8 . बहते पानी में नारियल विसर्जित करें। 

9 . शनि जयंती को काले उड़द पीसकर उसके आटे की गोलियां बनाकर मछलियों को खिलाएं। 

10. शनि जयंती को आक के पौधे पर 7 लोहे की कीलें चढ़ाएं। काले घोड़े की नाल या नाव की कील से बनी लोहे की अंगूठी मध्यमा उंगली में शनि जयंती को सूर्यस्त के समय पहनें। 

11. शमशान घाट में लकड़ी का दान करें। 

12. शनि जयंती को सरसों का तेल हाथ और पैरों के नाखूनों पर लगाएं। 

13. शनि जयंती से आरंभ कर चीटिंयों को 7 शनिवार काले तिल, आटा, शक्कर मिलाकर खिलाएं। 

14. शनि जयंती की शाम पीपल के पेड़ के नीचे तिल या सरसों के तेल का दीपक जलाएं। 

15. शनि की ढैया  या  साडे साती से ग्र‍सित व्यक्ति को हनुमान चालीसा का सुबह-शाम जप करना चाहिए। 

Subscribe to our Newsletter

To Recieve More Such Information Add The Email Address ( We Will Not Spam You)

Share this post with your friends

Leave a Reply

Related Posts

jai maa karni

कौन है श्री करणी माँ और क्यों इनके मंदिर में चलते है भक्त पैर घसीट कर,जाने माँ करणी से जुडी हर बात!!

कौन है श्री करणी माँ और क्यों इनके मंदिर में चलते है भक्त पैर घसीट कर,जाने माँ करणी से जुडी हर बात!!

Sarswati maa

कैसे हुई माँ सरस्वती की उत्पत्ति, कौन है माँ सरस्वती का वाहन?जाने ज्ञान की देवी माँ सरस्वती से जुड़ी हर बात!!

कैसे हुई माँ सरस्वती की उत्पत्ति, कौन है माँ सरस्वती का वाहन?जाने ज्ञान की देवी माँ सरस्वती से जुड़ी हर बात!!

Shree vishnu avtaar

कब-कब लिया भगवान श्री विष्णु ने धरती पर दुष्टों का संहार करने के लिए अवतार,जाने भगवन विष्णु से जुड़ी रोचक बातें!!

कब-कब लिया भगवान श्री विष्णु ने धरती पर दुष्टों का संहार करने के लिए अवतार,जाने भगवन विष्णु से जुड़ी रोचक बातें!!