Saraswati Avahan 2024:-नवरात्रि में इस विशेष दिन पर किया जाता है सरस्वती माता का पूजन, मिलता है ज्ञान और बुद्धि का आशीर्वाद !!

Saraswati Avahan 2024

Saraswati Avahan 2024:- देशभर में शारदीय नवरात्रि बड़े ही धूमधाम के साथ मनाये जाते हैं। नौ दिनों तक चलने वाले इस उत्सव में देश के धार्मिक और सांस्कृतिक पहलुओं की रंगारंगी देखने को मिलती है। इस दौरान उत्तर भारत में मां दुर्गा के अलग अलग नौ रूपों का पूजन होता है तो वहीं दक्षिण भारत में नवरात्रि के अंतिम दिन सरस्वती माता की पूजा की जाती है। यहां सरस्वती पूजा तीन दिनों तक चलती है और पहला दिन सरस्वती आह्वान के रूप में मनाया जाता है।

सरस्वती आवाहन का महत्व

  1. हिन्दू धर्म के अनुसार माँ सरस्वती संगीत, बुद्धि, कला व् विज्ञानं की देवी मानी जातीं हैं|
  2. शारदा, महाविद्या नीला सरस्वती, विद्यादायिनी, शारदाम्बा, वीणापाणि, व् पुस्तक धारिणी आदि नामो से माँ जानी जातीं है|
  3. माँ सरस्वती को त्रिदेवी भी कहा जाता है जिनका निवास ब्रह्मपुरा में है|
  4. माँ सरस्वती चतुर भुजाओं वालीं हैं, जो हमेशा चमकदार श्वेत वस्त्र धारण किये रहती है|
  5. माँ सफ़ेद कमल पर विराजमान रहती हैं व् उनका वाहन हंस है|
  6. भगवान् ब्रह्मा ने माँ सरस्वती की सूझ-बूझ व् ज्ञान की सहायता से ही इस ब्राह्माण की रचना की थी|
  7. सभी श्रध्दालु व् भक्त माँ का पूजन बहुत ही उत्साह व् निष्ठां से मनाते हैं|
  8. माँ की स्तुति कर माँ से कामना करतें है की उनको सद्द बुद्धि व् ज्ञान की प्राप्ति हो, और जीवन के हर लक्ष्य को पा सकें|

मां सरस्वती की रचना

ब्रह्मा जी ने जब पूरी धरती बना दी, लेकिन कुछ कमी थी। हर जगह नीरसता थी। तब उन्होंने जल लेकर धरती को हरा भरा कर मां सरस्वती का उद्गम किया। ब्रह्माजी ने मां को कहा कि वो वीणा और पुस्तक से इस दुनिया को मार्ग दिखाएं।

शक्ति के रूप में भी मां सरस्वती

कई पुराणों और ग्रंथों में मां सरस्वती के बारे में वर्णन किया गया है। धर्मग्रंथों में देवी को सतरूपा, शारदा, वीणापाणि, वाग्देवी, भारती, प्रज्ञापारमिता, वागीश्वरी तथा हंसवाहिनी आदि नामों से संबोधित किया गया है.

कुंभकर्ण की नींद के पीछे का कारण

कहा जाता है कि कुंभकर्ण ने भगवान ब्रह्मा की कई सालों तक पूजा की। जब ब्रह्मा खुश होकर वर देने जाने लगे तो अन्य देवताओं ने निवेदन कर कहा कि भगवन, कुंभकर्ण असुर प्रवृति का है और ये शक्तियों का गलत इस्तेमाल करेगा। इस पर ब्रह्मा ने मां सरस्वती को याद किया और फिर सरस्वती जाकर कुंभकर्ण की जीभ पर बैठ गई। जैसे ही ब्रह्मा ने कुंभकर्ण को वर के लिये पूछा तो कुंभकर्ण के मुंह से निकला ”मैं सालों सोता रहूं यही मेंरी इच्छा है”।

सरस्वती मां खुश करने के लिए अर्पित करें ये चीजें

  • घर में सुबह सफाई कर स्नान कर पूजा-अर्चना कर माता का आह्वान करें। मां सरस्वती को आम के पत्ते, केसर, हल्दी, अक्षत, तिलक, कलश, सरस्वती यंत्र, दूर्वा घास भी चढ़ाए। भगवान गणेश की भी पूजा अर्चना करे। विद्यार्थी किताब, कलाकार संगीत वाद्य यंत्र का पूजन करें।
  • पीले चंदन और केसर आप मां सरस्वती को पीले चंदन और केसर का तिलक लगाएं।
  • पेन और कॉपी जरूर अर्पित करें आप चाहे तो मां सरस्वती को पेन और कॉपी जरूर अर्पित करें।
  • पीली बूंदी का भोग लगाएं आप चाहे तो मां सरस्वती को आप पीली बूंदी का भोग भी लगा सकती है।
  • सरस्वती पूजा के दिन आपको पीले रंग का फल चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से भी माता आपसे प्रसन्न हो सकती हैं। प्रसाद के रूप में मौसमी केला जैसे फल को आप अर्पित कर सकती हैं।
  • मां सरस्वती को आप पीले रंग का या फिर सफेद रंग के फूल को ही चढ़ाना चाहिए। यह रंग मां को काफी ज्यादा पसंद है। ऐसे में आप आसानी से मां को खुश कर सकती हैं।

सरस्वती पूजा कलश पूजन विधि

  1. सरस्वती माता के पूजन स्थल को गंगाजल पवित्र करें। सरस्वती माता की प्रतिमा अथवा तस्वीर को सामने रखकर उनके सामने धूप-दीप, अगरबत्ती, गुगुल जलाएं जिससे वातावरण में सकारात्मक उर्जा का संचार बढ़े। इसके बाद पूजा आरंभ करें।
  2. घड़े या लोटे पर मोली बांधकर कलश के ऊपर आम का पल्लव रखें।
  3. कलश के अंदर सुपारी, दूर्वा, अक्षत, मुद्रा रखें।
  4. कलश के गले में मोली लपेटें।
  5. नारियल पर वस्त्र लपेट कर कलश पर रखें।
  6. हाथ में अक्षत और पुष्प लेकर वरूण देवता का कलश में आह्वान करें।

आवश्यक सामग्री

देवी सरस्वती की मूर्ति

 एक सफ़ेद कपड़ा

फूल- कमल, लिली और जैसमीन

आम के पत्ते

बेल पत्र

 हल्दी

 कुमकुम

 चांवल

दूर्वा दिया और

 अगरबती

गुलाल (होली के रंग)

दूध दवात

सरस्वती आह्वान पूजा विधि

– सरस्वती आह्वान निश्चित मुहूर्त में करना है|

– माता सरस्वती का आह्वान करने के लिए निर्दिष्ट मंत्रों का पाठ करना है|

– माता सरस्वती के चरण धोए जाते हैं|

– भक्तों द्वारा एक संकल्प या व्रत लिया जाता है|

– अलंकारम किया जाता है| मूर्ति को चंदन के लेप और कुमकुम आदि से सजाया जाता है|

– सफेद फूल चढ़ाए जाते हैं|

– कुछ भक्त व्रत भी रखते हैं|

– नैवेद्य अर्पित किया जाता है| अधिकतर सफेद रंग की मिठाइयां तैयार की जाती हैं|

– मंत्रों का पाठ किया जाता है| भजन गाए जाते हैं|

– आरती की जाती है|

– पूजा संपन्न होने के बाद प्रसाद का वितरण किया जाता है|

सरस्वती आवाहन क्रियापद्धति

सरस्वती आवाहन का मुहूर्त लगभग ५ घंटों का होता है, जिस दौरान माँ का आवाहन करना सबसे शुभ होता है| सरस्वती आवाहन मुला नक्षत्र में किया जाता है| परन्तु एकदम ठीक समय हर साल अलग अलग रहता है| सरस्वती आवाहन के दौरान माँ की कृपा पाने के लिए व् माँ को आमंत्रित करने के लिए कुछ मन्त्रों का उच्चारण किया जाता है|श्रद्धालु माँ की स्तुति कर माँ से अपने कुशल मंगल होने की कामना करतें हैं|

  1. माँ के आवाहन का पूजन शुरू करते समय सबसे पहले माँ के चरण धोये जाते है और माँ के विधिवत पूजा अर्चना करने का संकल्प किया जाता है|
  2. संकल्प लेने के पश्चात माँ को कुमकुम व् चन्दन से सजाया जाता है, और इस प्रलरिया को अलंकाराम कहा जाता है|
  3. अलंकाराम के बाद माँ के आगे घी या तिल के तेल का दिया, धूप, अगरबत्ती जगाई जाती है| उन्हें पीले व् सफ़ेद फूलों की माला अर्पित करी जाती है|
  4. इस शुभ अवसर पर माँ के लिए बहुत से नैवैद्यम बनाये जाते है और उनका भोग लगाया जाता है|
  5. माँ का सबसे प्रिय रंग सफ़ेद माना गया है, जिसे ध्यान में रखते हुए माँ को भोग में दिए जाने वाले सारे मिष्ठान सफ़ेद जैसे रसगुल्ले, खीर, बर्फी आदि बनाये जाते है|
  6. पूजा पूर्ण होने के पश्चात नैवेद्यम व् मिठाईयां, सभी एकत्रित हुए श्रद्धालुओं में प्रसाद के रूप में वितरित करी जाती है|
  7. प्रसाद वितरण के पश्चात माँ के भजन भी गाये जाते है|
  8. कुछ श्रद्धालु सरस्वती आवाहन के दिन व्रत भी करते है|

सरस्वती मां, जो कि विद्या और संगीत दोनो की देवी हैं। इनके आशीर्वाद के बिना पढ़ाई और संगीत में आगे बढ़ पाना असंभव है। चाहे जितने बड़े फिल्म स्टूडियो हों या बड़े से बड़ी यूनिवर्सिटी, वहां मां सरस्वती की मूर्ति होती ही है। मां सरस्वती हंस की सवारी करती हैं। उनके एक हाथ में वीणा तो दूसरे हाथ में पुस्तक होती है। नवरात्रि पूजा के सातंवे दिन यानि महासप्तमी को जब शुक्ल पक्ष होता है तो सरस्वती अावाहन किया जाता है। नवरात्रि के आखिरी तीन दिन मां सरस्वती की पूजा होती है। विजयादशमी के दिन विसर्जन किया जाता है।

मां सरस्वती की रचना

ब्रह्मा जी ने जब पूरी धरती बना दी, लेकिन कुछ कमी थी। हर जगह नीरसता थी। तब उन्होंने जल लेकर धरती को हरा भरा कर मां सरस्वती का उद्गम किया। ब्रह्माजी ने मां को कहा कि वो वीणा और पुस्तक से इस दुनिया को मार्ग दिखाएं।

शक्ति के रूप में भी मां सरस्वती

कई पुराणों और ग्रंथों में मां सरस्वती के बारे में वर्णन किया गया है। धर्मग्रंथों में देवी को सतरूपा, शारदा, वीणापाणि, वाग्देवी, भारती, प्रज्ञापारमिता, वागीश्वरी तथा हंसवाहिनी आदि नामों से संबोधित किया गया है|

सरस्वती पूजा विधि मंत्र सहित विस्तार सेः

मां सरस्वती की प्रतिमा अथवा तस्वीर को सामने रखकर उनके सामने धूप-दीप, अगरबत्ती, गुगुल जलाएं जिससे वातावरण में सकारात्मक उर्जा का संचार हो और आस-पास से नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाए।

इसके बाद पूजा आरंभ करें। पहले अपने आपको तथा आसन को मंत्र से शुद्ध करें- “ऊं अपवित्र: पवित्रोवा सर्वावस्थां गतोऽपिवा। य: स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यन्तर: शुचि:॥” इन मंत्रों से अपने ऊपर तथा आसन पर 3-3 बार कुशा या पीले फूल से छींटें लगाएं फिर इस मंत्र से आचमन करें – ऊं केशवाय नम:, ऊं माधवाय नम:, ऊं नारायणाय नम:, फिर हाथ धोएं, पुन: आसन शुद्धि मंत्र बोलें- ऊं पृथ्वी त्वयाधृता लोका देवि त्यवं विष्णुनाधृता। त्वं च धारयमां देवि पवित्रं कुरु चासनम्॥

शुद्धि और आचमन के बाद अपने माथे पर चंदन लगाना चाहिए। अनामिका उंगली से श्रीखंड चंदन लगाते हुए यह मंत्र बोलें ‘चन्दनस्य महत्पुण्यम् पवित्रं पापनाशनम्, आपदां हरते नित्यम् लक्ष्मी तिष्ठतु सर्वदा।’

अब पूजन के लिए संकल्प करें। हाथ में तिल, फूल, अक्षत मिठाई और फल लेकर ‘यथोपलब्धपूजनसामग्रीभिः भगवत्या: सरस्वत्या: पूजनमहं करिष्ये।’ इस मंत्र को बोलते हुए हाथ में रखी हुई सामग्री मां सरस्वती के सामने रखें। अब गणपति की पूजा करें।

सरस्वती विद्या मंत्र  का जाप करने के लाभ

  • नियमित रूप से सरस्वती विद्या मंत्र का पाठ करने से आपका बातचीत करने का तरीका बेहतर होगा, बुद्धि का विकास होगा और अध्ययन के दौरान ध्यान केंद्रित करने में आपको मदद मिलेगी।
  • सरस्वती मां के मंत्र में गलत सूचना और गलतफहमी को मिटाने की क्षमता है।
  • सरस्वती मंत्र का जाप जानकारी प्राप्त करने, सीखने और बनाए रखने का सरल तरीका है।
  • पूर्ण श्रद्धा भाव से सरस्वती विद्या मंत्र का उच्चारण करने से छात्रों की इच्छा शक्ति और दृढ़ संकल्प को बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • कवियों, लेखकों और सार्वजनिक कलाकारों को सरस्वती विद्या मंत्र जप करके सफलता के नए शिखर पर पहुंचने में मदद मिलती है।

Subscribe to our Newsletter

To Recieve More Such Information Add The Email Address ( We Will Not Spam You)

Share this post with your friends

Leave a Reply

Related Posts

tirupati balaji mandir

भगवन विष्णु के अवतार तिरुपति बालाजी का मंदिर और उनकी मूर्ति से जुड़े ख़ास रहस्य,तिरुपति बालाजी मंदिर में दर्शन करने के नियम!!

भारत में कई चमत्कारिक और रहस्यमयी मंदिर हैं जिसमें दक्षिण भारत में स्थित भगवान तिरुपति बालाजी का मंदिर भी शामिल है। भगवान तिरुपति बालाजी का

angkor wat temple

भारत में नहीं बल्कि इस देश में है दुनिया का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर, जाने अंगकोर वाट से जुडी सारी जानकारी!!

हिंदू धर्म सिर्फ भारत तक सीमित नहीं है। इसकी पुरातन संस्कृति की झलक पूरी दुनिया में दिखती है। यही कारण है कि इस धर्म के

kamakhya temple

जाने कामख्या देवी मंदिर से जुड़े कुछ ऐसे ख़ास रहस्य जो उड़ा देंगे आपके होश!!

माता कामाख्या देवी मंदिर पूरे भारत में प्रसिद्ध है। यह मंदिर 52 शक्तिपीठों में से एक है। भारतवर्ष के लोग इसे अघोरियों और तांत्रिक का