राहु से पीड़ित व्यक्ति के लक्षण और उसका उपाय

Rahu_graha

नमस्कार दोस्तों आज हम राहु के बारे में बात करेंगे

आज हम जानकारी देंगे कि राहु से पीड़ित व्यक्ति कि क्या लक्षण होते हैं और उसका क्या उपाय होता है

राहु से पीड़ित व्यक्ति भ्रमित अवस्था में रहता है उसका व्यक्तित्व बिखरा हुआ रहता है वह सोचता कुछ है और करता कुछ और है

वह देखते देखते अप्रत्याशित व्यवहार करने लगता है

उसमें प्रतिशोध की भावना भी अधिक होती है जो लोग राहु से पीड़ित होते हैं उन्हें दिमागी परेशानी की समस्या हो सकती है उससे पेट से या सांस से जुड़ी हुई समस्या भी हो सकती है

ऐसे व्यक्ति को रात में नींद भी अच्छी तरह से नहीं आती

राहु से पीड़ित व्यक्ति को नशे की आदत भी हो सकती है

खराब राहु से पीड़ित व्यक्ति घर के कोने में बैठने    आदि होता है रोशनी की जगह अंधेरे में बैठना ज्यादा पसंद करता होगा

कुछ लोगों के लिए राहु काफी दुखदाई हो सकता है

इसलिए राहु से हर व्यक्ति को डरना चाहिए

खासकर अशुभ राहु से अशुभ राहु के प्रभाव में आदमी पाप धोखा और घात करता है

राहु से किन लोगों को नहीं डरना चाहिए जब आप  पाप के रास्ते पर नहीं हो आप पुण्य आत्मा हो तो राहु आपको नुकसान नहीं पहुंचाता

परंतु यह संसार है कभी ना कभी व्यक्ति राहु के भ्रम जाल में फंस ही जाता है चाहे वह कुछ देर के लिए ही हो इसलिए हर अच्छे व्यक्ति को भी राहु से सतर्क रहना चाहिए और उस से बचे रहने के लिए उपाय भी करना चाहिए ताकि राहु के नकारात्मक परिणाम का निवारण हो सके और राहु के शुभ परिणाम को प्राप्त किया जा सके

अब हम आपको राहु देव से बचने के उपायों के बारे में बताएंगे

सबसे पहली बात

अच्छे लोगों की संगति अच्छी पुस्तकों का अध्ययन अच्छा खानपान और अच्छे विचारों अच्छी आदतों का विकास व्यक्ति के लिए आवश्यक है सरस्वती माता का पूजन करने से बुद्धि और विचार में विरलता आती है यह सबसे जरूरी है राहु सबसे ज्यादा बुद्धि और विचार पर अटैक करता है जब राहु खराब होता है तो व्यक्ति का बुद्धि और विचार खराब हो जाता है

दूसरी बात यह करें प्रतिदिन लाल चंदन का तिलक करें या लाल चंदन के वृक्ष की जड़ का ताबीज बनाकर पांव में बांध लें

उसके बाद यह ध्यान दें कि घर के कोनों को घर की टॉयलेट को और छत को बिल्कुल साफ रखें जाले आदि को घर में ना होने दें और खराब इलेक्ट्रॉनिक सामान घर में ना रहने दे

इससे राहु का नकारात्मक प्रभाव दूर होगा

राहु का और उपाय है

किसी पूर्णिमा तिथि में जटा वाले चार नारियल लेने हैं और नीले रंग का कपड़ा लेना है जो कि इतना बड़ा हो कि उसमें चारों नारियल एक साथ बांधे जा सके

उसी पूर्णिमा तिथि में शाम के समय में जब हल्का हल्का अंधेरा छा रहा हो तो घर के चारों कोनों में एक एक नारियल को रख देना है ध्यान यह देना है कि कमरे के चार कोनों का नहीं घर के चार कोनों में नारियल रखना है 45 दिन के बाद आने वाली अमावस्या तिथि जो आएगी उसमें जाकर चारों नारियल ले लेने हैं और उस नीले कपड़े में बांधकर अपने सिर के ऊपर 7 बार उसको मार लेना है और उसके बाद इन्हें जल प्रवाह कर देना है प्रवाहित करते समय आप यह सोचेंगे कि राहु के तमाम अशुद्धता को अपने जीवन से विदा करने आए थे जो अब आपने खुद से दूर कर दिया है और इसके बाद प्रणाम करके वापस आ जाएं पीछे मुड़कर ना देखें

दो छोटे-छोटे उपाय और बता रही हो जब भी मौका मिले तो हाथी को अकेला जरूर खिलाएं और कुष्ठ रोगियों को भोजन जरूर करें इससे राहु की पीड़ा जल्दी शांत होती है आप इसको मन से करें

Subscribe to our Newsletter

To Recieve More Such Information Add The Email Address ( We Will Not Spam You)

Share this post with your friends

Leave a Reply

Related Posts

Sarswati maa

कैसे हुई माँ सरस्वती की उत्पत्ति, कौन है माँ सरस्वती का वाहन?जाने ज्ञान की देवी माँ सरस्वती से जुड़ी हर बात!!

कैसे हुई माँ सरस्वती की उत्पत्ति, कौन है माँ सरस्वती का वाहन?जाने ज्ञान की देवी माँ सरस्वती से जुड़ी हर बात!!

Shree vishnu avtaar

कब-कब लिया भगवान श्री विष्णु ने धरती पर दुष्टों का संहार करने के लिए अवतार,जाने भगवन विष्णु से जुड़ी रोचक बातें!!

कब-कब लिया भगवान श्री विष्णु ने धरती पर दुष्टों का संहार करने के लिए अवतार,जाने भगवन विष्णु से जुड़ी रोचक बातें!!

Bholenath aur maa parvati

जाने शिव जी और माँ पार्वती का स्वरूप उनके अटूट प्रेम की कथा, जल्दी विवाह करवाने के लिए शिव जी से जुड़ें अचुक उपाय!!

जाने शिव जी और माँ पार्वती का स्वरूप उनके अटूट प्रेम की कथा, जल्दी विवाह करवाने के लिए शिव जी से जुड़ें अचुक उपाय!!

वृन्दावन धाम कहा है और क्या है इसे प्रचलित कहानी? जाने श्री बांके बिहारी जी की नगरी से जुडी सारी जानकारी!!

वृन्दावन धाम कहा है और क्या है इसे प्रचलित कहानी? जाने श्री बांके बिहारी जी की नगरी से जुडी सारी जानकारी!!